फुटबॉल क्लब के लिए, इस शख्स ने चुराए पत्नी के पैसे

फुटबॉल क्लब के लिए, इस शख्स ने चुराए पत्नी के पैसे

नई दिल्ली: क्या कोई बिज़नेसमैन फुटबॉल टीम खरीदने के लिए अपनी पत्नी के पैसे चुरा सकता है? इस बात पर आपको बिलकुल भी इश्वास नहीं होगा, लेकिन ये सही बात है. कारोबारी सुलेमान अल फहीम को लेकर एक चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है. जी हाँ, एक प्रीमियर लीग के दौरान उनके मन में ब्रितानी फुटबॉल क्लब ‘पोर्ट्समाउथ’ को खरीदने का ख्याल आया. इसके लिए उनके पास प्रयाप्त धन नहीं था, इसलिए उन्होंने अपनी वाइफ के पैसो को चुराया. हां आपको बताते है, आखिर क्या थी पूरी घटना……

फुटबॉल क्लब के लिए, इस शख्स ने चुराए पत्नी के पैसे

ये घटना सन 2009 की है और उस समय ‘पोर्ट्समाउथ’ की गिनती इंग्लिश फुटबॉल के ऐतिहासिक क्लबों में होती थी. आपको बता दे कि उन दिनों ‘पोर्ट्समाउथ’ आर्थिक परेशानियों के दौर से गुजर रहा था. लेकिन सुलेमान अल फहीम को विश्वास था कि वो इस क्लब की प्रॉब्लम को हल कर लेंगे. साल 2008 में मैनचेस्टर सिटी को अबू धाबी यूनाइटेड ग्रुप ने खरीदा था और सुलेमान ने इस सौदे में अहम् भूमिका निभाई थी. लेकिन ‘पोर्ट्समाउथ’ को खरीदने का उनका प्रयास गंभीर परिणाम लेकर आया. जिससे फुटबॉल क्लब ‘पोर्ट्समाउथ’ और सुलेमान अल फहीम लगभग 10 वर्ष तक इस रिजल्ट से बाहर नहीं निकल पाए.

Most Viral  फीफा वर्ल्ड कप 2018: रूस को मिली मेज़बानी, लेकिन छीन लिया ये हक़

फुटबॉल क्लब के लिए, इस शख्स ने चुराए पत्नी के पैसे

सुलेमान के ऊपर पहाड़ तब टुटा जब इसी साल 15 फरवरी को एक कोर्ट ने धोखाधड़ी, जाली दस्तावेज़ और सात मिलियन डॉलर की चोरी में साथ देने के लिए गुनहगार ठहराया. सबसे खास बात, सुलेमान ने ये चोरी अपनी पत्नी के पैसे की थी और इन्ही पैसो से उन्होंने फुटबॉल क्लब के लिए इक्विपमेंट भी खरीदे थे. कोर्ट ने उन्हें 5 साल जेल की सज़ा सुनाई है. सुलेमान की पत्नी को अपने पति पर इसका शक हो गया था कि वो उनके बैंक खाते से पैसा चुरा रहे हैं.

फुटबॉल क्लब के लिए, इस शख्स ने चुराए पत्नी के पैसे

इस मामले में दुबई की एक क्रिमिनल कोर्ट ने बैंक मैनेजर को भी पांच साल की सजा दी है. बता दे कि जब सुलेमान अल फहीम ने ‘पोर्ट्समाउथ’ की डील की थी तो उन्होंने इसके लिए 80 मिलियन डॉलर से भी ज़्यादा की रकम अदा की थी. और उस समय इंग्लिश फुटबॉल में ‘पोर्ट्समाउथ’ का नाम प्रतिष्ठित क्लबों में आता था. सुलेमान साल 2015 या 2016 में इस क्लब को टॉप-8 क्लबों में शामिल होते देखना चाहते हैं. लेकिन जिसे वो कभी पूरा नहीं कर पाए.

Most Viral  श्रीलंका बोर्ड की शर्मनाक हरकत, फ़ीस के लिए उतरवाई स्टाफ की पैंट

 

 

गजब: अंडर वियर के लिए खर्च कर दिए 60 हजार पाउंड

सुप्रीम कोर्ट का फैसला मेसी को जाना होगा 21 महीने के लिए जेल

21 साल बाद फीफा रैंकिंग में टॉप 100 में शामिल हुई भारतीय फुटबॉल टीम

 

Be the first to comment

Leave a comment

Your email address will not be published.


*


freaky funtoosh Install Android App