रहस्यमय शिवलिंग: हर साल बढ़ता है इसका आकार

रहस्यमय शिवलिंग: हर साल बढ़ता है इसका आकार

देश में आज चारों तरफ शिवरात्रि मनाई जा रही है. भगवान् भोलेनाथ की जगह-जगह पूजा और आराधना की जा रही है. वैसे तो महादेव नीलकंठ के देश में कई प्रसिद्द और चमत्कारिक मंदिर है, जो बहुत पौराणिक भी है. लेकिन शिवजी के जिस टेम्पल के बारे में हम आपको बताने जा रहे है, ये अपने आप में बहुत ही विचित्र है. जी हाँ, भारत में स्थित छत्तीसगढ़ राज्य के गरियाबंद जिले के मरौदा गांव है. इस गाँव के घने जंगलों के बीच बसे एक ऐसा चमत्कारी और प्राकृतिक शिवलिंग है, जो हर साल खुद बढ़ता जा रहा है.

रहस्यमय शिवलिंग: हर साल बढ़ता है इसका आकार

इस शिवलिंग की सबसे हैरान करने वाली बात यह है, कि इस रहस्यमय शिवलिंग की लंबाई और चौड़ाई 1 या 2 इंच नहीं बल्कि पूरे 6 से 8 इंच तक बढ़ जाती है. जानकारी के लिए आपको बता दें कि यहां के लोगों की इस मंदिर और यहां होने वाले चमत्कारों पर काफी आस्था और विश्वास हैं. इसका सबसे बड़ा कारण ये चमत्कार भी है जिसमें 18 फिट ऊंची और 20 फीट गोल शिवलिंग की लंबाई और चौड़ाई अपने आप बढ़ती जाती है.

रहस्यमय शिवलिंग: हर साल बढ़ता है इसका आकार

यहाँ के स्थानीय लोगों की जानकारी के अन्सुअर ये शिवलिंग दुनिया का सबसे बड़ा प्राकृतिक शिवलिंग है. दूसरी तरफ स्थानीय लोगों का ऐसा मानना है कि यहां मांगी गई कोई भी मुराद पूरी हो जाती है. इस गांव में बसे लोगों के मुताबिक स्थापना के वक्त यह शिवलिंग काफी छोटा था, लेकिन समय के साथ-साथ इसकी लंबाई और चौड़ाई बढ़ती चली गई.

रहस्यमय शिवलिंग: हर साल बढ़ता है इसका आकार

loading...

सबसे अचरज वाली बात ये भी है कि आज भी इस शिवलिंग के ऐसे बढ़ने का सिलसिला जारी है. शायद यही वजह है कि लोग इसे भुतेश्वर व भकुरा नाथ मंदिर के नाम से भी जानते हैं. और इसी के चलते यहां लगभग 12 महीने पर्यटकों व श्रद्धालु का तांता लगा ही रहता है. अगर आपको मौका मिले यहाँ जाने का तो इस अजब-गजब शिवलिंग के दर्शन लाभ जरुर लेना.

 

आखिर कहां शिवलिंग के तौर पर, होता है शनिदेव का पूजन

शक्तिपीठ ज्वाला देवी, जल रही भक्ति की अखंड ज्योति

अद्भुत, हर दिन आकार बदलती है कनिपक्कम गणपति की ये मूर्ति !