यहाँ होता है डबल मीनिंग डिप्लोमा, मिर्ची का मतलब जान उड़ जाएंगे होंश

Double meaning courses Mexico

Ajab-Gajab: मेक्सिको डबल मीनिंग वाली बातों के लिए काफ़ी फेमस है. आपको बता दे कि लैटिन अमेरिकी देश मेक्सिको में स्पेनिश भाषा बोली जाती है. इतना ही नहीं इस देश में द्विअर्थी भाषा को लेकर कोर्स भी कराए जाते है. यूँ तो हर देश और समाज में दोहरे मायनों या Double Meaning बातों का चलन होता है. बहुत से ऐसे जुमले हमारे समाज में भी चलते हैं, जो द्विअर्थी वाले होते हैं. ख़ास तौर से ऐसी बातें, जो सब के सामने न की जा सकें. जैसे, सेक्स को लेकर हमारी सोच. अक्सर लोग सेक्स के बारे में इशारों में बातें करते हैं.

Double meaning courses Mexico

स्लैंग यानी अश्लील शब्दों का इस्तेमाल करने से बचते हैं. ऐसे मौक़ों के लिए द्विअर्थी जुमले काम में लाए जाते हैं. पर, आप ये जानकर हैरान रह जाएंगे कि ऐसे द्विअर्थी संवाद को एक देश अपनी सांस्कृतिक धरोहर के तौर पर देखता है. मेक्सिको की कई ख़ूबियां हैं. मगर दोहरे मतलब वाली बातों के लिए ये देश ख़ास तौर से मशहूर है. यूं तो मेक्सिको चिली यानी मिर्च के लिए भी मशहूर है. एक से एक तीखी, तेज़ मिर्चें यहां उगाई जाती हैं. पर, मिर्चों को लेकर यहां तमाम जुमलेबाज़ियां चलती हैं.

 

सुज़ाना रिग के साथ हुई थी ये मजेदार घटना

 

Double meaning courses Mexico

इस लेख को लिखने वाली सुज़ाना रिग ब्रिटेन की रहने वाली हैं. वो मेक्सिको में रहते-रहते स्पेनिश ज़बान अच्छे से सीख गई हैं, लेकिन मेक्सिको डबल मीनिंग बातों से अंजान थी. मगर उन्हें दोहरे मायनों वाली जुमलेबाज़ी नहीं आती. सो, एक रोज़ जब वो रेस्टोरेंट में गईं, तो वेटर ने सुज़ाना से पूछा कि क्या आप मसालेदार खाना पसंद करती हैं? मगर इस बात को पूछने के लिए उस वेटर ने सुज़ाना से घुमा-फिरा कर कई सवाल कर डाले. वो किस देश की रहने वाली हैं. कौन सी भाषा बोलती हैं. इंग्लैंड में वो कहां की रहने वाली हैं. फिर आख़िर में वेटर ने सुज़ाना से पूछा कि क्या आप मसालेदार खाना खाती हैं? इसका जवाब हां में मिलने पर वेटर मुस्कुराता हुआ उनके पास से चला गया. सुज़ाना को समझ न आया कि आख़िर क्या बात है?

Most Viral  फांसी की सजा देने के बाद, क्यों तोड़ दी जाती है पैन की नौक

 

इसके बाद एक वाक़िया और हुआ. सुज़ाना अपने दोस्तों के साथ पार्टी करने गईं. बात मेक्सिको के ओक्साका शहर की है. दोस्तों ने सुज़ाना से मुस्कुराते हुए पूछा कि क्या उन्हें मिर्चें पसंद हैं? वेटर के साथ हुई बातचीत के तजुर्बे के बाद सुज़ाना फ़ौरन बोल पड़ीं. कहा कि ‘हां मुझे मिर्चें पसंद हैं’. इसके बाद उन्होंने मिर्चों की तारीफ़ में और भी बहुत कुछ कहा और जब वो मिर्चों को लेकर अपने लगाव का बखान कर रही थीं, तो सुज़ाना के दोस्त हंस-हंसकर लोट-पोट हुए जा रहे थे.

 

सुज़ाना को समझ में नहीं आया कि इसमें इतना हंसने वाली बात क्या है लेकिन उनके दोस्त तो हंस-हंसकर रोने की हालत में पहुंच गए थे. सुज़ाना ने मुस्कुराते हुए अपनी कही बातों पर ग़ौर किया. समझना चाहा कि कहीं ग़लती से उन्होंने स्पेनिश में कुछ ऊटपटांग तो नहीं कह दिया. उन्हें अपनी बातों में ऐसा कुछ नज़र नहीं आया.

 

इस बीच, उनके एक मेक्सिकन दोस्त ने हंसी रोकते हुए पूछा कि, ‘क्या तुम्हें वाक़ई मेक्सिकन मिर्च बहुत पसंद है?’ इसके बाद सभी लोग फिर से ज़ोर-ज़ोर से हंसने लगे. अचानक सुज़ाना को ख़्याल आया कि उन्होंने मिर्च शब्द का इस्तेमाल किया था और इसका दूसरा मतलब भी हो सकता है. वो शर्म से लाल हो गईं, जबकि दोस्त हंसते-हंसते पागल हो रहे थे. असल में सुज़ाना मेक्सिको की संस्कृति के एक ख़ास चलन ‘एल्बर’ का शिकार हो गई थीं. एल्बर मेक्सिको डबल मीनिंग बात करने का वो ढंग है, जिसमें किसी भी वाक्य के दोहरे या कई मायने होते हैं. शब्दों की ये बाज़ीगरी मेक्सिको में ख़ूब चलती है.

Double meaning courses Mexico

हिंदुस्तान की तरह ही मेक्सिको में सेक्स को लेकर लोग खुलकर बात करने से कतराते हैं. ऐसे में वो एल्बर यानी मेक्सिको डबल मीनिंग वाले वाक्यों का सहारा लेते हैं. ये बात सुज़ाना को समझाई मोरेलोस यूनिवर्सिटी की भाषा की प्रोफ़ेसर डॉक्टर लुसिल हेरास्ती ने. डॉक्टर हेरास्ती ने कहा कि सेक्स से जुड़ी बात के लिए दोहरे मतलब वाले जुमले मेक्सिको में ख़ूब इस्तेमाल होते हैं. उन्होंने समझाया कि मिर्च का मतलब लिंग भी होता है.

Most Viral  पैदा होते ही चलने लगा बच्चा,यकीन न हो तो खुद देख ले Video

 

तब जाकर सुज़ाना को अपने दोस्तों के साथ हुई बातचीत और उनकी हंसी का राज़ समझ में आया. अब जो कोई मेक्सिको में एल्बर के चलन से वाक़िफ़ न हो, तो, वो मिर्चों से सालसा बनाने से लेकर मिर्चों से अपने लगाव की बातें नासमझी में कहेगा. वहीं दोहरे मतलब निकालने वाले मिर्चों के प्रति किसी के लगाव का दूसरा ही मतलब निकाल कर हंसेंगे.

 

यूं तो हर देश में ऐसे द्विअर्थी जुमले ख़ूब चलते हैं. किसी चीज़ के दोहरे मायने निकाले जाते हैं. सेक्स की बातें ऐसे ही शब्दों के खेल करते हुए की जाती हैं. मगर मेक्सिको ने तो इसे बाक़ायदा अपनी संस्कृति की पहचान और अटूट हिस्सा बना लिया है. लोग इनकी मदद से इशारों में गालियां भी दे लेते हैं और मज़े से बातें भी कर लेते हैं.

Double meaning courses Mexico

डॉक्टर लुसिल हेरास्ती इसे मेक्सिकन कला कहती हैं. वो कहती हैं कि ज़बान पर अच्छी पकड़ रखने वाले ही ऐसा कर सकते हैं. ऐसे में जब कोई बाहरी मेक्सिको आता है, तो उसे ये कला समझने में वक़्त लगता है. इस दौरान वो कई बार दोस्तों के मज़ाक़ का निशाना बन जाता है.

 

ओक्साका में मेक्सिको डबल मीनिंग यानि गाली-गलौज वाली भाषा की ट्रेनिंग देने वाले ग्रेगोरियो डेस्गारेनेस कहते हैं कि किसी के लिए भी अपनी मातृ भाषा के सिवा दूसरी भाषा के स्लैंग सीखने में दिक़्क़त होती है. ऐसे में मेक्सिकन एल्बर्स को समझना और भी मुश्किल हो जाता है. कई बार तो ये इतने गहरे मायने वाली बातें लिए होते हैं कि ख़ुद मेक्सिको के लोग उनका मतलब नहीं समझ पाते.

 

मेक्सिको डबल मीनिंग बातों के लिए ऐसे हुआ प्रसिद्द

 

डॉक्टर हेरास्ती कहती हैं कि ये दोहरे जुमले मध्य मेक्सिको की खदानों में काम करने वालों ने सबसे पहले बोलने शुरू किए थे. घंटों खदान में काम करते करते बोर हो चुके लोगों ने अपने मनोरंजन के लिए ये बोल-चाल शुरू की थी. वहीं, मेक्सिको के कुछ भाषाविदों का मानना है कि इसकी शुरुआत मेक्सिको के मूल निवासियों ने स्पेन के क़ब्ज़े के दौरान की थी. इस तरह दोहरे मतलब वाले जुमलों से वो स्पेनिश साम्राज्य के निज़ाम को धोखा देते थे. क्योंकि मेक्सिको के मूल निवासियों पर भी स्पेनिश ज़बान थोपी गई थी. सो उन्होंने आपस में राज़दाराना बातें करने के लिए ये तरीक़ा निकाल लिया.

Most Viral  अपने बच्चे के सामने गलती से भी न करे ये गलतियां

 

ग्रेगोरियो डेस्गारेन्स कहते हैं कि असल में एल्बर, समाज के निचले तबक़े के लोगों की ऊंचे दर्जे वाले लोगों को चुनौती है. वो बताते हैं कि हम समाज के निचले तबक़े से हैं. लेकिन हमारा भी उतना ही हक़ बनता है. वहीं, अगर दो एल्बर बोलने वाले लोग मिलते हैं, तो बहुत जल्द उनमें अपनापन हो जाता है. क्योंकि वो समाज के एक ही तबक़े से ताल्लुक़ रखने वाले होते हैं.

 

मेक्सिको डबल मीनिंग जुमलों का मुक़ाबला

 

आज मेक्सिको डबल मीनिंग वाले जुमलों का इतना चलन हो गया है कि इसका बाक़ायदा मुक़ाबला होता है. इसमें हर साल ‘एल्ब्यूरेरोस’ यानी द्विअर्थी जुमलों का उस्ताद चुना जाता है. बरसों तक इस पर मर्दों का ही कब्ज़ा रहा था. मगर 20 साल पहले लॉर्ड्स रुइज़ नाम की महिला ने पहली बार इस ख़िताब को जीता। उसके बाद से आज तक उनसे ये ताज कोई नहीं छीन सका है.

 

आज तो लॉर्ड्स रुइज़ मेक्सिको की राजधानी मेक्सिको सिटी में एल्बर सीखने की कोचिंग देती हैं. उन्हें क्वीन ऑफ़ एल्बर का ख़िताब मिला हुआ है. मेक्सिको में एल्बर बोलने वालों को डिप्लोमा भी दिया जाता है. आज रुइज़ के साथ और भी लड़कियां, दूसरे लोगों को एल्बर बोलना सिखा रही हैं. उनकी नज़र में ये दिमाग़ी शतरंज का खेल है. जानकार कहते हैं कि मेक्सिको के कामकाजी तबक़े के लिए आज एल्बर सशक्तिकरण का ज़रिया बन गए हैं.

 

डब्बू अंकल के डांस ने गोविंदा को दी मात, CM शिवराज ने किया ट्वीट

OMG Video: टिकट खरीदने के लिए कौए ने महिला से छिना क्रेडिट कार्ड

कभी नहाती नहीं हिम्बा ट्राइब की महिलाएं, लेकिन सबसे खुबसूरत मानी जाती है, 5 Beauty Secrets

Be the first to comment

Leave a comment

Your email address will not be published.


*


freaky funtoosh Install Android App