Thursday, 3 May 2012

JNV गुरुकुल-अटूट रिश्तों का आँगन

                           

                  दौर-ऐ-जहाँ की यादें बेशुमार,
                  ख़्याल-ऐ-शान में है,
                      गुज़रा हुआ एक-एक लम्हा,
                      गुरुकुल का ध्यान में है |

                          उस ज़मीं के ज़र्रे-ज़र्रे को,
                     कैसे इतिहास मुकरर कर दूँ ,
                  जिसका मेरी रूह में वात्सल्य वादन,
                जो का त्यों वर्तमान में है |

                  वक्त ने महज ज़िल्द बदली है,
                  कारवाँ-ऐ-किताबों की,
             शब्दों का लिबाज़ और अंदाज़,
             आज भी वही खून-ऐ-खान में है |

               वो रुखसार,वो प्यार,
              वो ज्ञान की गंगा का असीम उदगार,
             जैसे जान-ऐ-जन्नत-जहाँ,
              आज भी उसी खानदान में है |

            क्या खोया क्या पाया इस "अज्ञात" ने,
            अल्फ़ाज़ों में हो सकता नहीं बयाँ,
             सर्वस्व विविन की तरूणाई,
        और लहराते लबों की मुस्कान में है |  

Devoted to jnv school life...