FREAKY FUNTOOSH - FLAVORED ENTERTAINMENT: May 2012

Adipurush Trailer : प्रभास होंगे राम तो रावण होंगे सैफ

प्रभास और सैफ अली खान अभिनीत आदिपुरुष, बहुभाषी मैग्नम ओपस 3 डी फीचर फिल्म, जो ओम राउत द्वारा निर्देशित है, 11 अगस्त 2022 को रिलीज़ होगी। जी ...

कोका कोला से मछलियों को खट्टे डकार आते है

                                      
                                     
                                        आसमाँ से हल्का हनीमून टपकता है,

                                   फिर भी धरती पे प्यासा शराबी है क्यूँ?

                                         दिन के तड़के में देखो सूरज पिघलता है,

                                          फिर भी चमगादड़ चाँदनी से परेशाँ है क्यूँ?

                                डोक्टर दांतों में कोलगेट की कमी बताता है,

                               फिर भी खाबों में जुलाबों के निशाँ है क्यूँ?

                        पडोसी को परदेसी की पत्नी पराई लगती है,

                      फिर भी बारिश भिकारी पे मेहरबाँ है क्यूँ?

                              तुफानो में चुडेल जलती जुल्फें सुखाती है,

                              फिर भी प्रधानमंत्री की बेटी जवाँ है क्यूँ?

                                     पश्चिम में पैरों का पसीना नाक से बहता है,

                                     फिर भी सुहागरात से परछाई इतनी हैराँ है क्यूँ?

                               सांप के सुन्दर ससुर को सौतेली माँ सताती है,

                              फिर भी समंदर की दाड़ी में टुटा तिनका है क्यूँ?

                    चुल्लू भर पानी,सारे सागर पे भारी पड़ता है,

                   फिर भी शबनम की बूंदों से पतंगा नहाता है क्यूँ?

           यमराज मुर्दे की मौत पे अपनी नसबंदी करवाता है,

          फिर भी चूहा थूंक से ही लिफ़ाफ़े पे टिकिट चिपकता है क्यूँ?
                         झींगुर के साथ लंगूर अपनी औकात दिखाता है,

                        फिर भी शतरंज की शय से फटा प्यादे का गिरेबाँ है क्यूँ?

                        कोका कोला से मछलियों को खट्टे डकार आते है,

                       फिर भी भैंस के दूध से एड्स ठीक हो जाता है क्यूँ? 

JNV गुरुकुल-अटूट रिश्तों का आँगन

                           

                  दौर-ऐ-जहाँ की यादें बेशुमार,
                  ख़्याल-ऐ-शान में है,
                      गुज़रा हुआ एक-एक लम्हा,
                      गुरुकुल का ध्यान में है |

                          उस ज़मीं के ज़र्रे-ज़र्रे को,
                     कैसे इतिहास मुकरर कर दूँ ,
                  जिसका मेरी रूह में वात्सल्य वादन,
                जो का त्यों वर्तमान में है |

                  वक्त ने महज ज़िल्द बदली है,
                  कारवाँ-ऐ-किताबों की,
             शब्दों का लिबाज़ और अंदाज़,
             आज भी वही खून-ऐ-खान में है |

               वो रुखसार,वो प्यार,
              वो ज्ञान की गंगा का असीम उदगार,
             जैसे जान-ऐ-जन्नत-जहाँ,
              आज भी उसी खानदान में है |

            क्या खोया क्या पाया इस "अज्ञात" ने,
            अल्फ़ाज़ों में हो सकता नहीं बयाँ,
             सर्वस्व विविन की तरूणाई,
        और लहराते लबों की मुस्कान में है |  

Devoted to jnv school life...

Please Mention, Which Type Of Content You Like?

Name

Email *

Message *