पाक का नापाक फरमान,कुलभूषण की लेगा जान

kulbhushan_posterkulbhushan_poster

जो देश हम भारतियों का नाम तो ठीक से लिख नहीं सकता वो क्या हमारे लिए मौत का फरमान जारी करेगा ? जी हाँ दोस्तों, बिलकुल सही है,पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव को लेकर एक प्रेस रिलीज़ जारी की है, जिसमे ये पाक सरकार उसका नाम तक ठीक से लिख नहीं पाई है.

आपको यह भी बता दे कि पाकिस्तान ने एक विडियो भी जारी किया है जो तमाम न्यूज़ चैनल पर दिखाया जा रहा है,जिसमे विडियो के साथ पाक सरकार ने शर्मनाक तरीके से छेड़खानी की है. हाल ही में पाकिस्तान ने भारत के नौसेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव को फांसी की सजा सुनाई है. इसके बाद मामले को लेकर भारत ने पाकिस्तान के सामने कड़ा विरोध जताया है.

भारत ने कहा है कि पाकिस्तान यदि मौत की सजा देता है तो यह सुनियोजित हत्या होगी. विदेश मंत्रालय ने सोमवार को पाकिस्तानी उच्चायुक्त अब्दुल बासित को तलब कर उन्हें कहा कि जिस कार्यवाही के आधार पर जाधव को यह सजा दी गई है वह हास्यास्पद है और उनके खिलाफ कोई विश्वसनीय साक्ष्य नहीं हैं. वहीं दूसरी और आम जनता से लेकर सेलेब्स भी कुलभूषण जाधव के समर्थन में उतर गए है.

सोशल मीडिया पर लोग कुलभूषण जाधव को फांसी की सजा रोकने की मांग करते हुए पाकिस्तान की जमकर आलोचना कर रहे है. इस मामले में बॉलीवुड सिंगर अभिजीत भट्टाचार्य ने भी कड़ा विरोध करते हुए ट्वीट किया कि, ‘अगर पाकिस्तान कुलभूषण को फांसी से नहीं रोकता है तो फिर भारत में जो भी पाकिस्तानी जहां दिखे उसे पेड़ से लटका दो.

अगर भारत में खोजा जाए तो ज्यादातर पाकिस्तानी भट्ट या जौहर के घर पर मिलेंगे.’ इसके अलावा उन्होंने एक ओर ट्वीट में लिखा कि “इस मामले में सारे खान चुप क्यों हो?” गौरतलब है कि कोर्ट मार्शल में भारतीय नौसेना के 46 वर्षीय पूर्व अधिकारी की मौत की सजा पर पाकिस्तानी सेना के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने भी मुहर लगा दी है. इस मामले में बॉलीवुड अभिनेता ऋषि कपूर ने ट्विटर पर लिखा कि, ‘भारत को दुख है कि एक्टर, फिल्मों और स्पोर्ट्स के जरिए दोनों देशों के बीच शांति की कोशिश एक बार फिर नाकाम रही. पाकिस्तान सिर्फ नफरत चाहता है. अगर पाकिस्तान को दोनों देशों के बीच तनाव पसंद है तो यही सही, क्योंकि ताली हमेशा दोनों हाथों से बजती है.’

ऋषि कपूर के इस ट्वीट से नाराज एक पाकिस्तानी महिला ने उन्हें गाली दे दी, जिसके बाद ऋषि कपूर ने महिला को कहा कि, ‘आपके माता-पिता ने आपको अपने से बड़े लोगों से बात करने की तमीज नहीं सिखाई है. बड़ों से बात करते समय अपनी भाषा पर ध्यान देना चाहिए. पाक की इन सभी करतूतों से सिद्ध होता है कि वह भारत के साथ किसी प्रकार की कोई संधि या मेलमिलाप नहीं चाहता है,और निरंतर मानव अधिकारों का उलंघन करता जा रहा है. अब देखना यह होगा कि संयुक्त राष्ट्र संघ इस मसले पर कब तक चुप्पी साधता है और किस ओर करवट लेता है ?

 

भैरव जी को काशी का कोतवाल क्यों कहा जाता है

माता हरी: जिसने दिलकश हुस्न के जादू से प्रथम विश्व युद्ध को गर्मा दिया था

Be the first to comment

Leave a comment

Your email address will not be published.


*