क्या मोबाईल तरंगो से हो सकता है कैंसर,जवाब देगा ये पोर्टल

mobile raysmobile rays


अगर आपको भी मोबाइल टावर से निकलने वाली विकिरण को लेकर कोई मिथ्या है तो आज हम आपके लिए उसका समाधान लेकर आये है. अब आप पोर्टल की सहायता से अपने एरिये के मोबाइल टावर से निकलने वाली विकिरण के बारे में पता लगा पाएंगे.

दरसअल दूरसंचार विभाग ने तरंग संचार नाम का एक पोर्टल बनाया है. जिसको खुद संचार मंत्री मनोज सिन्हा ने लॉन्च किया है. पोर्टल को लॉन्च करने के बाद मनोज सिन्हा ने कहा कि इस पोर्टल के माधयम से आप मोबाइल टावर से निकलने वाली विकिरण के बारे में पता लगा सकते हो, यह पोर्टल इन तरगणो के बारे में जो मिथ्या धारणाये है उनको भी तोड़ने का काम करेगा.

यह पोर्टल किसी भी क्षेत्र में कार्यरत तमाम टावरों के बारे में ग्राहकों को एक क्लिक पर जानकारी देगा. और यह बताएगा कि किस टावर से निकलने वाली तरंगो का मानक क्या है और यह सरकार के द्वारा तय किये मानक से ज्यादा तो नहीं है.

दरसअल बाईट दिनों ग्वालियर के एक मरीज ने दवा किया था कि उसके पास के मोबाईल टावर से निकलने वाली विकिरण से उसे कैंसर हुआ है, जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने मोबाईल टावर को हटाने का आदेश दिया था. और मोबाईल टावर की तरंगो को लेकर विवाद शुरू हो गया था. जिसके बाद सरकार की और से कहा गया था कि भारतीय मोबाइल टावर पूरी तरह सुरक्षित है.

 

ड्यूल सिम फीचर के साथ भारत में नोकिया की री एंट्री, कीमत मात्र 2,299

यूजर्स की डिमांड पर व्हाट्स एप में फिर से आया टेक्स स्टेटस अपडेट करने का फीचर

विडियो गेम खेलो और हो जाओ फिट

Related Post

Be the first to comment

Leave a comment

Your email address will not be published.


*