मंदसौर में 6 किसानों की मौत से बिगड़े हालत, शिवराज सरकार देगी 1-1 करोड़ का मुआवजा



महाराष्ट्र के किसानों द्वारा शुरू किया गया किसान आंदोलन अब शिवराज सरकार के लिए मुसीबत बन गया है. मध्य प्रदेश में किसान आंदोलन उग्र हो गया है. कल मंदसौर में पुलिस फायरिंग में 6 किसानों की मौत के बाद आंदोलन ने और उग्र रूप ले लिया है.

इसके विरोध में आज किसानों ने आधे दिन का प्रदेश बंद का आव्हान किया है, वही कांग्रेस ने भी इसका समर्थन किया है. गौरतलब है कि कल मध्यप्रदेश के मंदसौर में किसान आंदोलन में हिंसा हुई. इस दौरान आंदोलनकारियों ने 25 से ज्यादा ट्रक और कई बाइक को आग के हवाले कर दिया. उन्होंने पुलिस और सीआरपीएफ पर पथराव भी किया. इस दौरान हालत पर काबू पाने के लिए सुरक्षा बालों द्वारा फायरिंग की, जिसमें 6 लोगों की मौत हो गई. इसके बाद शहर में कर्फ्यू लगा दिया गया.

ऐसे बिगड़े हालत-

बता दे कि मंदसौर, पिपलियामंडी और दलोदा इलाके के किसान बीते 2 दिन से अपनी मांगों को लेकर पदर्शन कर रहे है. मंगलवार को हालत उस समय बेकाबू हो गए जब 1000 से ज्यादा किसानों ने मंदसौर और पिपलियामंडी के बीच स्थित बही पार्श्वनाथ फोरलेन पर चक्काजाम किया. जब पुलिस ने सख्ती दिखाई तो इन्होने पथराव शुरू कर दिया. ऐसे में हालत बिगड़ गए और आंदोलकारियों ने 25 से ज्यादा ट्रकों में आग लगा दी. उन्होंने बूढ़ा पुलिस चौकी में भी आग लगा दी. जिसके बाद हुई फायरिंग में 6 किसानो की मौत हो गई.

 

सरकार ने किया सबसे बड़े मुआवजे का एलान-

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने इसे कांग्रेस की सुनियोजित साजिश करार दिया है, वहीं मंदसौर हिंसा में मारे गए 6 किसानों के परिजनों के लिए एक-एक करोड़ रुपये मुआवजे और गंभीर रूप से घायलों को पांच लाख रुपये की सहायता राशि देने का ऐलान किया है. इसके अलावा मृतक किसानों के परिवार में से एक सदस्य को नौकरी भी दिए जाने की घोषणा की है. बता दे कि यह मध्यप्रदेश सरकार द्वारा ऐसी घटना में दिया जाने वाला अब तक सबसे बड़ा मुआवजा है.

जमकर हो रही सियासत-

अन्नदाता पर गोली चली तो सियासत भी गर्म हो उठी. इस मामले कोई लेकर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी ने कहा कि, ‘BJP के नए इंडिया में हमारे अन्नदाताओं को हक मांगने पर गोली मिलती है. केंद्र सरकार किसानों से जंग लड़ रही है.’ वहीं कांग्रेस नेता दिग्विजय ने इसे दुर्भाग्यपूर्ण घटना बताया. कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने इसे काला दिन करार देते हुए कहा कि सत्ता के नशे में चूर सरकार किसानों के अधिकार की लड़ाई को कुचलना चाहती है. अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया, “एमपी की भाजपा सरकार किसानों की हत्यारी है। देश भर के किसान चुप नहीं रहेंगे। पूरा देश किसानों के साथ है।”

यह है किसानों की मुख्य मांगे-

किसानों को कर्ज माफी मिले, सरकारी डेयरी दूध के ज्यादा दाम दे, स्वामीनाथन कमेटी की सिफारिशें लागू हों, किसानों पर दायर केस वापस लिए जाएं.

लगा कर्फ्यू, इंटरनेट सेवाओं पर रोक-

इस घटना के बाद प्रशासन ने मंदसौर, नीमच और रतलाम में इंटरनेट और मोबाइल सेवाओं पर रोक लगा दी है, वहीं मंदसौर, पिपलियामंडी, मल्हारगढ़, और नाहरगढ़ में कर्फ्यू में लगा दिया गया है. नारायणगढ़ में भी धारा 144 लगाई गई है.

गर्मी से परेशान घोड़ा दौड़कर कार में जा घुसा, देखिए घटना का Video

भारतीय सैनिकों ने रचा इतिहास, बिना ऑक्सीजन सिलिंडर फतह किया एवरेस्ट

1 करोड़ लोगों ने देखा कॉलेज गर्ल्स का धमाकेदार डांस वीडियो, क्या आपने देखा ?

Related Post

Be the first to comment

Leave a comment

Your email address will not be published.


*